Online/Offline Marketing & Supporting System +91 8109108219, 8349555700
default-logo

संजर से अजमेर का सफ़र – पार्ट 3

दास्ताने हुज़ूर ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ रदिअल्लाहू तआला अन्हु “हुज़ूर ख्वाजा ग़रोब नवाज़” की विलादत माहे ‘रजबुलमुरज्जब’ की 14 तारीख, ‘पीर’ के दिन सुबह सादिक के वक्त हुई थी। यूँ तो आपकी विलादत के बारे में बेशुमार करामतो का ज़िक्र मिलता है, जिनमे से चंद करामतो को ही पेश किया जा रहा है। जब आपकी विलादत हुई तो ज़मी से लेकर आसमां तक इतना नूर फैला हुवा था, की जो लोग तहज्जुद की नमाज़ पढ़ा करते थे, जब उनकी आँखे खुली तो  उन्हें भी ये गुमान हुवा की वो आज उठ क्यों नहीं सके यहाँ तक की लोगो को लगा की उनकी फज़र की नमाज़े तो कही कज़ा नहीं हो जाएगी।   आपकी वालिदा फरमाती है की ‘जब आप दुनिया में तशरीफ़ लाये तो वो ये देख कर हैरान रह गयी थी की पैदा होते ही इस बच्चे ने सजदा कर अपने रब का शुक्र अदा किया, सिर्फ इतना ही नहीं उस वक्त इस नवजात शिशु की ज़बाने मुबारक से कलिमा ए तैय्यिबा...
Read More →

संजर से अजमेर का सफ़र – पार्ट 2

दास्ताने हुज़ूर ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ रदिअल्लाहू तआला अन्हु को इस बार एक नये अंदाज़ में किसी किस्से की मानिंन्द  लिखने की कोशिश की है, इसमें अगर कुछ बेअदबी खता हो जाये, तो  माफ़ी का तलबगार हूँ। यूँ तो हुज़ूर ख़्वाजा ग़रीब का ज़िक्र उनके दौर के हर खास ओ आम की जुबां पर ही रहा करता था, उस वक्त के बादशाह और शासक आपके दर पर आया करते थे, ग़रीब नवाज़ के बारे में ज़िक्र सबसे पहले एक कदीमतरीन किताब “ सैरुल औलिया, में किया गया और फिर सैरुल आरफीन में भी किया गया, मगर ये फ़ारसी भाषा में लिखी होने से इसे हर कोई नहीं समझ सका। फिर इसके बाद “सुरुरुस्सुदुर”, जो की हुजुर ग़रीब नवाज़ के खलीफा “शेख हमीदुद्दीन नागौरी अलैहिर्रहमह” के बारे में उनके के फरजंद “शेख अजीजुद्दीन” ने लिखी और शेख फरीदुद्दीन ने भी अपने मुशाह्दातो मालूमात इसमें दर्ज किये।   खुद हुजुर ग़रीब नवाज़ ने भी फ़ारसी भाषा में किताबे लिखी है, मगर अफ़सोस की बात...
Read More →

Chattisgarh : रियल हीरो की तलाश …

  छत्तीसगढ़ में अनुकरणीय कार्य करने वाले कम से कम 5 व्यक्ति या संस्था का नाम का सुझाव दीजिए। अंतिम तारीख 10 फरवरी 2019।   Suggest 5 individuals/Organization across Chattisgarh doing commendable and inspiring work in any field. Looking for Heroes who are doing real ground work and creating a sustainable impact for our society, people who have dedicated their lives for the social upliftment. Last date : 10 Feb 2019 A transformational Road trip is under progress. Message. Mail. Call. Share. +91 7828581841 +91 9560554552 contactus@nukkadteafe.com
Read More →

संजर से अजमेर का सफ़र – पार्ट 1 

  ‘इलाही जाऊ कहाँ होके मै तेरा मंगता, मेरे मोईन मदद कर, मदद कर मेरे दाता, मुईने दी, शहन्शाहे औलिया के वास्ते’ शुक्रअलहम्दुलिल्लाह // हम गरीबोँ, लाचारो, बेसहारो, मजबूरो  के मददगार, हमारे हाजतरवा, मुश्किलकुशा, सुल्ताने जूदो सखा,  ख़ुलुसो मोहब्बत के पैकर, मुर्शिदे कामिल, हसन ओ हुसैन की आँखों के तारे, अली के दुलारे, मुख्तारे नबी, अताए रसूल, महबूबे खुदा, सुल्तानुल हिन्द ख्वाजा-ए-ख्वाजग़ान, हज़रत ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन संजरी चिश्ती रदिअल्लाहू तआला अन्हु के बारे में नए सिरे से मुकम्मल सवाने हयात “दास्ताने हुज़ूर ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ रदिअल्लाहू तआला अन्हु” ‘संजर से अजमेर का सफ़र’  तमाम आशिकाने ग़रीब नवाज़ को नज्र करते हुवे बेहद ख़ुशी हो रही है।   इस दास्तान में आप समाद फ़रमाएंगे, हुज़ूर ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ रदिअल्लाहू तआला अन्हु की मुबारक पैदाइश से लेकर इल्म हासिल करने वो पीरो मुर्शिद क...
Read More →