Online/Offline Marketing & Supporting System +91 8109108219, 8349555700
default-logo

बच्चे को देख फटी रह गई आंखें

 

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

” *मैं उर्दू में गजल कहता हूं* ,
*हिंदी मुस्कुराती है* ।
*लिपट जाता हूं मां से और*
*मौसी मुस्कुराती है* ।।”
-मुनव्वर राणा

मां के बाद बच्चों के सबसे करीब कोई होता है , तो वह मौसी होती हैं। बच्चों और मौसी के बीच के रिश्ते को बताने के लिए इससे सुंदर पंक्तियां नहीं हो सकती । कुछ दिनों पूर्व जब *शकील रिजवी* जी जगदलपुर के पोस्ट को देखा तो ये पंक्तियां ख्याल में आने लगी ।

शकील जी के कार्य को सुनिए उन्हीं की जुबानी -

“हर शुक्रवार को नानगूर में बाजार पड़ता है । मैं ग्रामीणों का हाल-चाल जानने बाजार जरूर जाता हूं । बाजार में बैठा हुआ था , तभी बामनारास गांव का रहने वाला सोनू नाग लेक्टोजन का पैकेट लेकर पहुंचा और पूछने लगा कि इसे बच्चों को कैसे पिलाते हैं ? तब बच्चे का हाल जानने मैं भी सोनू नाग के साथ उसके घर पहुंच गया । बच्चे को देख कर आंख फटी रह गई , लगा मानो  अफ्रीका के किसी अकाल पीड़ित बच्चे को देख रहा हूं । बच्चे की मां पहले ही चल बसी है और बच्चे की भी हालत बहुत गंभीर थी । तत्काल अपने चिकित्सक मित्र डॉ अनूरुप साहू से बात की और फिर तुरंत ही बच्चे को जगदलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया गया । बच्चे को चिकन पॉक्स और मलेरिया हो गया था । डॉ साहू भी सेवा के कार्य में बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं । उनकी मेहनत रंग लाई और बच्चे को बचा लिया गया । और बच्चे के स्वास्थ्य में भी सुधार होने लगा और बच्चा जल्दी घर आ गया ।

 

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

बस्तर के इस कुपोषित बच्चे की मदद की गई। आज यह पहले स्वस्थ है।

यह तो सिर्फ एक बच्चा है पर ना जाने  ऐसे कितने बच्चे होंगे । कोशिश सभी तक पहुंचने की है । इसीलिए इस पर एक पोस्ट शेयर की थी ,  जिसे पढ़कर *इटली* निवासी मित्र *विली सेन्सोन* ने मुहिम चलाई और कुपोषित बच्चों के लिए ड्राई मिल्क के लिए ₹90000 की सहयोग राशि भी इकट्ठी कर ली । उम्मीद करता हूं इससे हम और भी अधिक बच्चों को पोषण दे पाएंगे । जब भी इस बच्चे की तस्वीर को देखता हूं तो दिल को बड़ा सुकून मिलता है ।”
-शकील रिजवी

 

शकील जी आप नहीं जानते हैं कि आपने क्या कार्य किया है । इस तस्वीर को देख कर लाखों चेहरे पर मुस्कान आने वाली है । आप भी बच्चे की दोनो तस्वीर देखिए और मुस्कुराइए । और अगर आपने भी दिल को सुकून देने वाला कोई कार्य किया है तो मुझे जरूर बताइए।

वैभव पांडेय
जीवनदीप

 

About the Author

Leave a Reply

*

captcha *