Online/Offline Marketing & Supporting System +91 8109108219, 8349555700
default-logo

व्यंग्य : चोखेलाल भी गरीब था, पर चोखा था

दफ़्तर में की-बोर्ड और दिमाग की दही करने के बाद जब हरिराम की खबर का संपादक ने रायता फैला दिया, तो हरिराम अपने मन ही मन उनकी माता-बहनों को याद करता हुआ दफ़्तर से झल्लाता हुआ निकला। दरअसल, दिनभर यहां-वहां, इस दफ़्तर, उस दफ़्तर भटकने के बाद कलेक्टर मांगेलाल के चपरासी चोखेलाल न...
Read More →